बरनवाल वैश्य सभा के अध्यक्ष कैप्टन साहब व महासचिव मुन्नी लाल जी का इस्तीफा मंजूर

फरीदाबाद में 25 दिसंबर, 2017 को आयोजित अहिबरण जयंती में भाग लेते कैप्टन रामजीवन प्रसाद बरनवाल। (फाइल फोटो)

बरनवाल वैश्य सभा दिल्ली की परिकल्पना करने से लेकर 32 सालों से इसे सुचारू रूप से संचालन करने, समाज के बंधुओं को एकता के सूत्र में पिरोने का काम करने वाले कैप्टन साहब और मुन्नी लाल जी ने अपने-अपने पदों से इस्तीफा दे दिया।

लंबे समय तक बरनवाल वैश्य सभा का नेतृत्व कर रहे कैप्टन रामजीवन प्रसाद बरनवाल जी ने अधिक उम्र और स्वास्थ्य का हवाला देते हुए बरनवाल वैश्य सभा की कार्यकारिणी को संबोधित करते हुए इस्तीफा पत्र दिया। इस पत्र में उन्होंने पदमुक्त करने और नए लोगों को इसके लिए आगे आने का आह्वान किया।

आदरणीय मुन्नी लाल जी (फाइल फोटो)

इससे पहले बरनवाल वैश्य सभा के महासचिव श्री मुन्नी लाल जी ने सभा के अध्यक्ष कैप्टन साहब को संबोधित करते हुए अपने पद से इस्तीफा दे दिया। उन्होंने इस्तीफा देने की कोई वजह नहीं बताई लेकिन सक्रिय रूप से भूमिका अदा करने में असमर्थता जाहिर की। उन्होंने अपना इस्तीफा पत्र डाक से अध्यक्ष कैप्टन आर पी बरनवाल को भेजा था। उनके इस्तीफे की कॉपी बतौर पीडीएफ नीचे दिया गया है। 

Resign Letter of Sh. Munni Lal

महासचिव के इस्तीफा देने के बाद सभा के अध्यक्ष कैप्टन साहब ने बरनवाल वैश्य सभा के सचिव जय प्रकाश बरनवाल को नए महासचिव की नियुक्ति होने तक महासचिव की भूमिका का निर्वहन करने का आदेश दिया। इस आदेश का पालन करते हुए सचिव जयप्रकाश जी ने 20 मई, 2018 को कार्यकारिणी की बैठक बुलाई। इस बैठक में अध्यक्ष कै. रामजीवन प्रसाद बरनवाल के स्वास्थ्य को देखते हुए उनका इस्तीफा स्वीकार कर लिया गया।

महासचिव श्री मुन्नी लाल जी के इस्तीफे पर जब चर्चा हुई तो कार्यकारिणी के कुछ सदस्य चाहते थे कि मुन्नी लाल जी मनाया जाए। हालांकि इस पर सहमति नहीं बन पाई। ऐसे में, श्री मुन्नी लाल जी का इस्तीफा स्वीकार करना पड़ा।

अगर आप हमें आर्थिक रूप से मदद करना चाहते हैं तो जानकारी के लिए यहां क्लिक करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *