वित्तीय फैसलों को लेकर लापरवाही से बचें

मोबाइल, टीवी, बाइक या फ्रीज आदि के बगैर तनिक भी रहने का विचार भी मन में लोग नहीं लाते हैं। ये सब अच्छे से चले, इसके लिए एक से एक प्लानिंग करते हैं लेकिन जब बात रिटायरमेंट की प्लानिंग, बच्चों की शिक्षा अथवा शादी जैसे वित्तीय फैसलों की आती है तो Continue reading “वित्तीय फैसलों को लेकर लापरवाही से बचें”

फिक्स डिपॉजिट की तरह एलआईसी में निवेश पर 10 गुणा रिस्क कवर के साथ आकर्षक रिटर्न

भारतीय जीवन बीमा ने एक बहुत ही बेहतरीन पॉलिसी जीवन उत्कर्ष के नाम से लेकर आया है। यह पॉलिसी इसी चालू वित्तीय वर्ष के लिए उपलब्ध है।

किसके नाम से लिया जा सकता है पॉलिसी
छह साल के बच्चे के नाम से लेकर के 47 साल उम्र के व्यक्ति के लिए यह पॉलिसी उपलब्ध है।
Continue reading “फिक्स डिपॉजिट की तरह एलआईसी में निवेश पर 10 गुणा रिस्क कवर के साथ आकर्षक रिटर्न”

बिहार आपको पुकार रहा है …

इन दिनों बिहार बाढ़ की विभीषका से जूझ रहा है। बाढ़ प्रभावित क्षेत्र की स्थिति बहुत ही दर्दनाक स्थिति में है। पानी हाहाकार मचा रहा है। वहां रहने वाले लोगों की हालत बहुत खराब स्थिति में है। वहां रहने वाले लोगों को हर तरह से मदद की दरकार है। सरकार और उनका सरकारी अमला अपने गुणा गणित से काम कर रहा है लेकिन एक इंसान होने के नाते, भारत का नागरिक होने के नाते, हिन्दी भाषाई क्षेत्र का होने के नाते ही नहीं बिहारी होने के नाते भी स्वयं की प्रेरणा से हमें ऐसे मौके पर विषम परिस्थिति में बाढ़ प्रभावित लोगों की मदद करनी चाहिए। Continue reading “बिहार आपको पुकार रहा है …”

बरन पुंज के जुलाई-दिसंबर 2017 का अंक पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

बरन पुंज पत्रिका का नया अंक (जुलाई-दिसंबर2017) पढ़ना चाहते हैं तो नीचे दिए गए लिंक को क्लिक करें। फाइल डाउनलोड करें और पढ़े। आपको पत्रिका अच्छी लगे और इसका प्रिंट कॉपी नियमित रूप से अपने पास मंगवाना चाहते हैं तो पत्रिका का आजीवन सदस्य बनें। सदस्य बनने के लिए पत्रिका के संपादक या फिर प्रतिनिधि मंडल से संपर्क करें। विवरण पत्रिका के पीडीएफ फाइल में दिया हुआ है। 

BP_July_Dec2017

बरनवाल वैश्य सभा दिल्ली के संरक्षक अरविंद प्रसाद बने झारखंड ऊर्जा नियामक आयोग के अध्यक्ष

बरनवाल वैश्य सभा दिल्ली के संरक्षक और भारतीय प्रशासनिक सेवा से सेवानिवृत्त अधिकारी अरविंद प्रसाद झारखंड ऊर्जा नियामक आयोग के अध्यक्ष बन गए। Continue reading “बरनवाल वैश्य सभा दिल्ली के संरक्षक अरविंद प्रसाद बने झारखंड ऊर्जा नियामक आयोग के अध्यक्ष”

हिन्दी भवन में ‘युवक-युवतियों का परिचय सम्मेलन’ की झलकियां

बरनवाल वैश्य सभा के तत्वावधान में 9 जुलाई 2017 को हिन्दी भवन में युवक-युवतियों का परिचय सम्मेलन का सफल आयोजन हुआ। इस आयोजन का उद्देश्य योग्य जीवन साथी की तलाश में मददगार बनने की कोशिश है। समाज के लोगों द्वारा इस कार्यक्रम को सराहा गया है। Continue reading “हिन्दी भवन में ‘युवक-युवतियों का परिचय सम्मेलन’ की झलकियां”

हिन्दी भवन, दिल्ली में होगा युवक-युवतियों का परिचय सम्मेलन

बरनवाल वैश्य सभा, दिल्ली देशभर में रहने वाले बरनवाल समाज के युवक-युवतियों के लिए परिचय सम्मेलन करा रहा है। यह सम्मेलन दिल्ली के आईटीओ मेट्रो स्टेशन के पास हिन्दी भवन में होना है। हिन्दी भवन नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से मात्र ढाई किमी की दूरी पर है। Continue reading “हिन्दी भवन, दिल्ली में होगा युवक-युवतियों का परिचय सम्मेलन”

100 फीसदी विकलांग, फिर भी मेहनत करके बच्चों की करते हैं परवरिश

हममें से किसी को थोड़ा भी कष्ट होता है तो हम सबको लगने लगता है कि दुनिया में सबसे ज्यादा हमें ही दुख है। लेकिन आइए हम आपको एक ऐसे शख्सियत से मिलवाते हैं जिसके दो छोटे-छोटे बच्चे हैं। पत्नी का देहांत हो चुका है। दायां पैर घुटने से उपर तक हादसे में गंवा चुके हैं। एक बीमारी की वजह से दायां हाथ भी कटवा दिया। Continue reading “100 फीसदी विकलांग, फिर भी मेहनत करके बच्चों की करते हैं परवरिश”

क्लेम देने में LIC का कोई जोर नहीं

साल 2016-17 में 99.92 प्रतिशत क्लेम का किया भुगतान
जीवन बीमा के क्षेत्र में एलआईसी के अलावा 23 और कंपनियां काम करती है।
LIC ने रखा हर महीने 99 फीसदी क्लेम का निपटाने करने का लक्ष्य

जीवन बीमा का पर्याय बन चुका एलआईसी पर लोग भरोसा आंख बंदकर यूं ही नहीं करते हैं। भारतीय जीवन बीमा निगम (एलआईसी) ने 2016-17 में रिकार्ड 99.92 प्रतिशत मृत्यु दावों का निपटान किया। उद्योग के स्तर पर यह औसत 95 प्रतिशत है। आने वाले समय में इस पर ध्यान बनाए रखने के साथ ही मासिक आधार पर 99 प्रतिशत दावों के निपटान पर नजर है। Continue reading “क्लेम देने में LIC का कोई जोर नहीं”

मार्गदर्शन और सहयोग मिले तो निरंजन जैसे बच्चों की कमी नहीं

बरनवाल समाज में मेधावी बच्चों की कमी नहीं है। उन्हें सही मार्गदर्शन और सहयोग मिले तो निरंजन बनने में देर नहीं लगती। मैं ऐसा क्यों कह रहा हूं। आप स्वयं पढ़िए… यूपीएससी 2016 में सफलता प्राप्त करने वाले निरंजन की जीवनी, Continue reading “मार्गदर्शन और सहयोग मिले तो निरंजन जैसे बच्चों की कमी नहीं”