#MeeToo के दौर में भोगे हुए यथार्थ की सच्चाई है ‘ताल ठोक के’

समीक्षक – दीपक राजा

स्त्री विमर्श के नाम पर बहुत-सी पुस्तकें, लेख, कहानी और कविताओं को मैंने समझने का प्रयास किया लेकिन ‘ताल ठोक के’ पुस्तक अपने शीर्षक के अनुसार ही डंके की चोट पर औरत की वास्तविक स्थिति से रू-ब-रू कराती है। पुस्तक की कविताएं एक ऐसे अहसास से परिचय कराती है जिससे हम रोजाना अपनी जिंदगी में दो-चार होते हैं। कई बार अनजाने में तो कई बार जान-बूझकर इन घटनाओं को नजरअंदाज करके आगे बढ़ जाते हैं। पारिवारिक और सामाजिक जिम्मेदारियों की वजह से ऐसा अक्सर होता है।

आलोच्य पुस्तक ‘ताल ठोक के’ में कुल एक सौ आठ कविताओं को समाहित किया है, जिसे सात शीर्षकों में बांटा गया है। कवयित्री दामिनी की कविताओं को पुस्तक का रूप दिया है आत्माराम एंड संस ने। पुस्तक में कुल आठ रेखा चित्र और एक आवरण चित्र है। इसे उकेरा है प्रसिद्ध कलाकार इमरोज ने। रेखा चित्र कविताओं के अध्याय से रू-ब-रू कराने का सफल प्रयास करता है। #MeeToo अभियान के इस दौर में युवा कवयित्री दामिनी ने जिस तरह से भोगे हुए यथार्थ को शब्दों से चित्रांकन किया है, उससे पता चलता है कि उन्हें विद्या की देवी सरस्वती के आशीर्वाद के साथ-साथ मां भवानी से अदम्य साहस भी प्राप्त है।

समाज जीवन से मिले हर तरह के अनुभवों और पारिवारिक दायित्वों के निर्वहन करने के साथ-साथ रचनाकर्मी के रूप में दामिनी अग्रसर हैं। दृढ़ता के साथ अपनी कविता के साथ खड़ा होना, लेसमात्र भी संशोधन स्वीकार्य नहीं करने वाली कवयित्री की कार्यशीलता उन्हें स्वभाव से कर्तव्यनिष्ठ, कर्मठशील और कृत-संकल्पित होने का परिचय कराती है। इसकी झलक अपनी कविताओं की पुस्तक को खुद को ही समर्पित करने से भी मिलती है। कोई लेसमात्र भी संवेदनशील होगा तो इतना तय है कि इस पुस्तक की कविताओं को पढ़ने और उसे समझने के बाद स्त्रीत्व के प्रति उसके सोचने और विचारने का नजरिया बदल जाएगा।

समाज में जिन विषयों पर तमाम विसंगतियों के बाद भी खुलकर चर्चा नहीं होती। परिवार, समाज और वर्जनाओं के बीच जिन विषयों पर आधी-अधूरी बात कही और सुनी जाती है। खम ठोक के सीधे-सीधे दो टूक शब्दों में ऐसे विषयों को अपनी कविताओं के विषय बनाती हैं, यह उनकी जीवटता को परिभाषित करता है।

पुस्तक का नाम – ताल ठोक के (कविता संग्रह)
कवयित्री – दामिनी
प्रकाशक – आत्माराम एंड संस
कीमत – चार सौ पंचान्यवे रुपए मात्र

अगर आप हमें आर्थिक रूप से मदद करना चाहते हैं तो जानकारी के लिए यहां क्लिक करें। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *