कैंसर पीड़ित उमेश मोदी को बचा नहीं पाए, उनके बच्चों को शिक्षित करने के लिए मदद की अपील

चकाई, जमुई के रहने वाले श्री उमेश मोदी को कैंसर था। तमाम प्रयासों के बाद भी उन्हें बचाया नहीं जा सका। उनका परिवार सदमें हैं। उमेश जी के नहीं रहने पर उनके बच्चों की जिम्मेदारी समाज पर है। उनके मदद के लिए लोगों को आगे आना चाहिए। गौरतलब है कि श्री उमेश मोदी जी बरनवाल समिति चकाई की ओर से मिले 20 हजार रुपए की सामूहिक मदद से इलाज कराने पटना आए थे। इसकी जानकारी दीपारती वेलफेयर फाउंडेशन को 7 सितंबर, 2018 को हुई। कई जगहों पर फोन और सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर खोजबीन के बाद श्री उमेश मोदी के भतीजे संदीप का नंबर उपलब्ध हो पाया। उसके बाद हमारे मित्रमंडली में शामिल और पटना में समाज की बेहतरी के लिए कार्यशील बरनवाल सृजन फाउंडेशन टीम में शामिल दीपक बरनवाल, लीलाधर उर्फ गुड्डू बरनवाल जी तक दीपारती फाउंडेशन ने बात पहुंचाई और यथासंभव आर्थिक रूप से मदद करने का भरोसा दिया था।  Continue reading “कैंसर पीड़ित उमेश मोदी को बचा नहीं पाए, उनके बच्चों को शिक्षित करने के लिए मदद की अपील”

पांच लाख की आवश्यकता, समाज से अब तक मिला मात्र 80 हजार

किडनी ट्रांसप्लांट के लिए श्री मनोज कुमार बरनवाल जी पारस अस्पताल पटना में 31अगस्त को भर्ती होंगे, 3 सितंबर को किडनी ट्रांसप्लांट होगा। उनकी पत्नी उन्हें किडनी दे रही है। कानूनी प्रक्रिया पूरी हो चुकी है। बिहार सरकार 3 लाख रुपए की आर्थिक मदद कर रही है। श्री मनोज जी पिछले पांच साल से डायलिसिस पर हैं। उनकी आर्थिक हालात ठीक नहीं है। श्री मनोज जी के बारे में अधिक जानकारी के लिए नीचे दिए लिंक देखें Continue reading “पांच लाख की आवश्यकता, समाज से अब तक मिला मात्र 80 हजार”

किडनी ट्रांसप्लांट कराने में आर्थिक सहयोग दें, ऑपरेशन 25 अगस्त को पटना में

पांच साल से डॉयलिसिस पर रहने वाले श्री मनोज कुमार बरनवाल को किडनी डोनर मिल गया है लेकिन उन्हें 4 लाख रुपए आर्थिक मदद की दरकार है। उनकी पत्नी रीता बरनवाल अपना एक किडनी मनोज को देंगी। किडनी ट्रांसप्लांट कराने की कागजी कार्रवाई भी पूरी हो चुकी है। बिहार सरकार 3 लाख रुपए की आर्थिक सहायता प्रदान करते हुए किडनी ट्रांसप्लांट की मंजूरी दे दी है। इसी महीने 25 अगस्त को पटना के पारस अस्पताल में श्री मनोज का किडनी ट्रांसप्लांट होना है। अस्पताल के डॉक्टरों का कहना है कि इसमें ऑपरेशन कराने और फिर ऑपरेशन के बाद लगभग तीन महीने तक इलाज अस्पताल की देख-रेख में होगा।

पारस अस्पताल ने किडनी ट्रांसप्लांट से लेकर आगे के खर्च का आकलन करीब 10 लाख रुपए लगाया है। इलाज का खर्च बढ़ भी सकता है। श्री मनोज जी को भरोसा है घर और रिश्तेदारी से वह दो लाख रुपए तक प्रबंध कर लेंगे। सोशल मीडिया पर मुहिम शुरू करने का परिणाम है कि मनोज जी के खाते में अब तक एक लाख रुपए की मदद पहुंच पाई है। फिर भी, कम से कम चार लाख रुपए की और आवश्यकता है। इस सूचना को पढ़ने वाले सभी शुभचिंतकों, मित्रों और समाज का भला चाहने वाले लोगों से अनुरोध है कि मनोज को मदद करने में सहभागी बनें। Continue reading “किडनी ट्रांसप्लांट कराने में आर्थिक सहयोग दें, ऑपरेशन 25 अगस्त को पटना में”

किडनी ट्रांसप्लांट के इलाज में श्री मनोज बर्णवाल को 5 लाख रुपए आर्थिक मदद की दरकार

श्री मनोज कुमार बर्णवाल पांच साल से डॉयलिसिस पर हैं। पटना में इसी महीने के अंत तक किडनी ट्रांसप्लांट होना है। बिहार सरकार तीन लाख रुपए की मदद दे रही है। लगभग एक लाख रुपए की मदद दो-तीन लोगों ने दी है। घर-रिश्तेदारी से करीब दो लाख रुपए मनोज स्वयं जुटा रहे हैं। फिर भी लगभग 4-5 लाख रुपए की आवश्यकता है। इस सूचना को पढ़ने वाले सभी शुभचिंतकों, मित्रों और समाज का भला चाहने वाले लोगों से अनुरोध है कि मनोज को मदद करने में सहभागी बनें। Continue reading “किडनी ट्रांसप्लांट के इलाज में श्री मनोज बर्णवाल को 5 लाख रुपए आर्थिक मदद की दरकार”

अगर आप रिश्तों के प्रति संजीदा हैं और रचनाएं करते हैं तो आप हो सकते हैं पुस्तक प्रकाशन योजना में शामिल

अगर आप खून के रिश्ते, पारिवारिक रिश्ते और सामाजिक रिश्ते को लेकर संजीदा हैं और रिश्तों पर आधारित अपनी भावनाओं को शब्द में पिरोना जानते हैं तो यह खबर आपके लिए है। आप कविता, कहानी या किसी भी विधा में साहित्यिक रचना करते हैं तो यह खबर आपको पुस्तक का हिस्सा बनने का एक अवसर बनकर आया है। Diparti Welfare Foundation (DWF) आपके लिए पुस्तक प्रकाशन की योजना लेकर आया है। DWF की योजना में आप अपनी रचना भेजकर प्रकाशित होने वाली पुस्तक का हिस्सा बना सकते हैं।

पुस्तक प्रकाशन की योजना के तहत रचनाएं आमंत्रित
अखिल भारतीय स्तर पर काम करने की इच्छा रखने वाला संगठन – Diparti Welfare Foundation (DWF), पारिवारिक और सामाजिक रिश्तों को संजोना चाहता है। उन रिश्तों की भावनाओं और संवेदनाओं को एक आकार देना चाहता है। रिश्तों पर लिखी जा रही रचनाओं को एक सूत्र में पिरोना चाहता है। इसके लिए DWF पुस्तक प्रकाशन की योजना लेकर आपके बीच आया है।

Continue reading “अगर आप रिश्तों के प्रति संजीदा हैं और रचनाएं करते हैं तो आप हो सकते हैं पुस्तक प्रकाशन योजना में शामिल”

DWF सदस्य के लिए सदस्यता फार्म

दीपारती वेलफेयर फाउंडेशन (DWF) का सदस्य बनने के लिेए नीचे दिए गए पीडीएफ फाइल को डाउनलोड करें। फार्म पर अपनी फोटो लगाएं और फार्म भरने के बाद पहचान पत्र, पैन नंबर और सदस्यता राशि के साथ इसे फार्म पर लिखे कैंप कार्यालय के पते पर डाक से भेज दें … DWF के बारे में विस्तार से समझने के लिए यहां क्लिक करें। उद्देश्य की पूर्ति के लिए आर्थिक रूप से  हमारी मदद करना चाहते हैं तो पेटीएम या बैंक खाते की जानकारी के लिए यहां क्लिक करें।  

बिहार आपको पुकार रहा है …

इन दिनों बिहार बाढ़ की विभीषका से जूझ रहा है। बाढ़ प्रभावित क्षेत्र की स्थिति बहुत ही दर्दनाक स्थिति में है। पानी हाहाकार मचा रहा है। वहां रहने वाले लोगों की हालत बहुत खराब स्थिति में है। वहां रहने वाले लोगों को हर तरह से मदद की दरकार है। सरकार और उनका सरकारी अमला अपने गुणा गणित से काम कर रहा है लेकिन एक इंसान होने के नाते, भारत का नागरिक होने के नाते, हिन्दी भाषाई क्षेत्र का होने के नाते ही नहीं बिहारी होने के नाते भी स्वयं की प्रेरणा से हमें ऐसे मौके पर विषम परिस्थिति में बाढ़ प्रभावित लोगों की मदद करनी चाहिए। Continue reading “बिहार आपको पुकार रहा है …”