सच्ची सुंदरता

सुंदरता मुख्य रूप से दो प्रकार की कही जा सकती है – आंतरिक सुंदरता और बाह्य सुंदरता अर्थात् मन की सुंदरता और तन की सुंदरता। जब हम कहते हैं कि अमुक व्यक्ति का मन अतिसुंदर है, तो इसका अभिप्राय है कि परोपकार, करुणा, दया आदि मानवीय गुणों से वह व्यक्ति परिपूर्ण है। किन्तु जब हम किसी व्यक्ति के विषय में यह कहते हैं कि देखो, वह व्यक्ति कितना सुंदर दिखाई दे रहा हैं, तो इसका मतलब है कि शारीरिक सौष्ठव, रंग-रूप की दृष्टि से वह व्यक्ति आकषर्ण का केंद्र है।  Continue reading “सच्ची सुंदरता”

बरन पुंज के जुलाई 2018-जून 2019 का संयुक्तांक पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

बरन पुंज पत्रिका का नया अंक (जुलाई 2018-जून2019) संयुक्तांक है। इसे पढ़ना चाहते हैं तो नीचे दिए गए लिंक को क्लिक करें। यहां पीडीएफ फाइल है। उसे डाउनलोड करें और पढ़े। पत्रिका अच्छी लगे और इसका प्रिंट कॉपी नियमित रूप से अपने पास मंगवाना चाहते हैं तो पत्रिका का आजीवन सदस्य बनें। सदस्य बनने के लिए पत्रिका के संपादक या फिर प्रतिनिधि मंडल से संपर्क करें। विवरण पत्रिका के पीडीएफ फाइल में दिया हुआ है।

दिल्ली के बरनवाल समाज ने की सामूहिक आरती

अहिबरण जयंती के मौके पर मंचासीन विख्यात पत्रकार जयशंकर गुप्त, पूर्व कानून मंत्री सोमनाथ भारती, बरनवाल वैश्य सभा के अध्यक्ष एनके बरनवाल व अन्य। फोटो : आरती बरनवाल

दिल्ली में 25 दिसंबर 2018 को आईटीओ के पास राजाराम मोहन राय मेमोरियल हॉल में महाराजा अहिबरण जी की जयंती मनाई गई। बरनवाल वैश्य सभा दिल्ली के बैनर तले दिल्ली एनसीआर के बरनवाल बंधुओं ने महाराजा अहिबरण जी की सामूहिक आरती की है। सामूहिक आरती गान का वीडियो देखकर अंचभित रह जाएंगे आप …

कैंसर पीड़ित उमेश मोदी को बचा नहीं पाए, उनके बच्चों को शिक्षित करने के लिए मदद की अपील

चकाई, जमुई के रहने वाले श्री उमेश मोदी को कैंसर था। तमाम प्रयासों के बाद भी उन्हें बचाया नहीं जा सका। उनका परिवार सदमें हैं। उमेश जी के नहीं रहने पर उनके बच्चों की जिम्मेदारी समाज पर है। उनके मदद के लिए लोगों को आगे आना चाहिए। गौरतलब है कि श्री उमेश मोदी जी बरनवाल समिति चकाई की ओर से मिले 20 हजार रुपए की सामूहिक मदद से इलाज कराने पटना आए थे। इसकी जानकारी दीपारती वेलफेयर फाउंडेशन को 7 सितंबर, 2018 को हुई। कई जगहों पर फोन और सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर खोजबीन के बाद श्री उमेश मोदी के भतीजे संदीप का नंबर उपलब्ध हो पाया। उसके बाद हमारे मित्रमंडली में शामिल और पटना में समाज की बेहतरी के लिए कार्यशील बरनवाल सृजन फाउंडेशन टीम में शामिल दीपक बरनवाल, लीलाधर उर्फ गुड्डू बरनवाल जी तक दीपारती फाउंडेशन ने बात पहुंचाई और यथासंभव आर्थिक रूप से मदद करने का भरोसा दिया था।  Continue reading “कैंसर पीड़ित उमेश मोदी को बचा नहीं पाए, उनके बच्चों को शिक्षित करने के लिए मदद की अपील”

राजाराम मोहन राय मेमोरियल हॉल में मनाया जाएगा अहिबरण जयंती 2018

बरनवाल वैश्य समाज के आदिपुरुष महाराजा अहिबरण जी की जयंती दिल्ली में 25 दिसंबर, 2018 को ही मनाया जाएगा। कार्यक्रम नई दिल्ली रेलवे स्टेशन के समीप राजाराम मोहन राय मेमोरियल हाल में आयोजित होगा। इसकी घोषणा बरनवाल वैश्य सभा दिल्ली के महासचिव अधिवक्ता उमेश कुमार बर्णवाल ने की है।  Continue reading “राजाराम मोहन राय मेमोरियल हॉल में मनाया जाएगा अहिबरण जयंती 2018”

बरन पुंज पत्रिका में भागीदारी करने का मौका, आवेदन करें

अगर आप लेखन, संपादन में रूचि रखते हैं तो आपके लिए एक अच्छी सूचना है। दिल्ली से प्रकाशित होने वाली बरन पुंज पत्रिका में सक्रिय भागीदारी निभाने का मौका आपके हाथ आया है। बरन पुंज पत्रिका के लिए संपादक मंडल और प्रतिनिधि मंडल को पुनर्गठित किया जा रहा है।  Continue reading “बरन पुंज पत्रिका में भागीदारी करने का मौका, आवेदन करें”

#MeToo अभियान की आवाज को संबल देता है It’s Never to Late

सोशल मीडिया से शुरू हुआ #MeToo अभियान भारत में भी जोर पकड़ रहा है। लोग धीरे-धीरे अपनी बात, आप बीती अलग-अलग तरीके से बता रहे हैं। ये मी-टू का अभियान अपने साथ हुए ‘ज्यादती’ को लेकर चुप्पी तोड़ने का साहस दे रहा है। #MeToo अभियान जब भारत में शुरू नहीं हुआ था, लोग चुप्पी तोड़ भी सकते हैं, ऐसा सोचना भी दुश्कर था। उस समय में मिर्जापुर (उत्तर प्रदेश) की रहने वाली प्रियंका बरनवाल ने एक बेहतरीन रचना के माध्यम से दुनिया से कहा It’s Never to Late. लेखिका प्रिंयका ने डेब्यू उपन्यास का यही शीर्षक दिया। यह लेखिका का भावनात्मक रूप से एक विराट अंदाज है, जो दुनिया को चुप्पी तोड़ने के लिए संबल प्रदान करता है कि चुप्पी तोड़ने के लिए देरी नहीं हुई ….।  Continue reading “#MeToo अभियान की आवाज को संबल देता है It’s Never to Late”