सच्ची सुंदरता

सुंदरता मुख्य रूप से दो प्रकार की कही जा सकती है – आंतरिक सुंदरता और बाह्य सुंदरता अर्थात् मन की सुंदरता और तन की सुंदरता। जब हम कहते हैं कि अमुक व्यक्ति का मन अतिसुंदर है, तो इसका अभिप्राय है कि परोपकार, करुणा, दया आदि मानवीय गुणों से वह व्यक्ति परिपूर्ण है। किन्तु जब हम किसी व्यक्ति के विषय में यह कहते हैं कि देखो, वह व्यक्ति कितना सुंदर दिखाई दे रहा हैं, तो इसका मतलब है कि शारीरिक सौष्ठव, रंग-रूप की दृष्टि से वह व्यक्ति आकषर्ण का केंद्र है।  Continue reading “सच्ची सुंदरता”

बरन पुंज के जुलाई 2018-जून 2019 का संयुक्तांक पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

बरन पुंज पत्रिका का नया अंक (जुलाई 2018-जून2019) संयुक्तांक है। इसे पढ़ना चाहते हैं तो नीचे दिए गए लिंक को क्लिक करें। यहां पीडीएफ फाइल है। उसे डाउनलोड करें और पढ़े। पत्रिका अच्छी लगे और इसका प्रिंट कॉपी नियमित रूप से अपने पास मंगवाना चाहते हैं तो पत्रिका का आजीवन सदस्य बनें। सदस्य बनने के लिए पत्रिका के संपादक या फिर प्रतिनिधि मंडल से संपर्क करें। विवरण पत्रिका के पीडीएफ फाइल में दिया हुआ है।

बरन पुंज पत्रिका में भागीदारी करने का मौका, आवेदन करें

अगर आप लेखन, संपादन में रूचि रखते हैं तो आपके लिए एक अच्छी सूचना है। दिल्ली से प्रकाशित होने वाली बरन पुंज पत्रिका में सक्रिय भागीदारी निभाने का मौका आपके हाथ आया है। बरन पुंज पत्रिका के लिए संपादक मंडल और प्रतिनिधि मंडल को पुनर्गठित किया जा रहा है।  Continue reading “बरन पुंज पत्रिका में भागीदारी करने का मौका, आवेदन करें”

बरन पुंज के जनवरी-जून 2018 का अंक पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

बरन पुंज पत्रिका का नया अंक (जनवरी-जून2018) पढ़ना चाहते हैं तो नीचे दिए गए लिंक को क्लिक करें। यहां पीडीएफ फाइल है। उसे डाउनलोड करें और पढ़े। इसमें मां पर कविता है तो चित्रकार के नाम से एक प्रेरक प्रसंग है। वहीं युवा कहानीकार सुरेश बरनवाल की कहानी सैनिक और बंदूक भी है जिसे वर्ष का सबसे बेहतरीन कहानी चुुना गया था।

BP_Jan_Jun2018

आपको पत्रिका अच्छी लगे और इसका प्रिंट कॉपी नियमित रूप से अपने पास मंगवाना चाहते हैं तो Continue reading “बरन पुंज के जनवरी-जून 2018 का अंक पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें”

बरन पुंज के 9वें अर्द्धवार्षिकांक के लिए आमंत्रण

बरन पुंज पत्रिका के अगले अंक की तैयारी शुरू हो गई है। समाज के सभी शुभचिंतकों, पत्रकारों, लेखकों, नवांकुर कहानिकारों और कवियों से आग्रह है कि पत्रिका के लिए अपने लेख, विचार, आसपास के समाचार, समाज के हर्ष-विषाद की सूचनाएं, कहानी, कविता, प्रेरक घटनाएं हमारे संपादकीय पते (बरन पुंज संपादकीय कार्यालय, आई-7, सेक्टर-12, नोएडा, गौतमबुद्ध नगर, उत्तर प्रदेश 201301) पर प्रेषित करें या Continue reading “बरन पुंज के 9वें अर्द्धवार्षिकांक के लिए आमंत्रण”

बरन पुंज के जुलाई-दिसंबर 2017 का अंक पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

बरन पुंज पत्रिका का नया अंक (जुलाई-दिसंबर2017) पढ़ना चाहते हैं तो नीचे दिए गए लिंक को क्लिक करें। फाइल डाउनलोड करें और पढ़े। आपको पत्रिका अच्छी लगे और इसका प्रिंट कॉपी नियमित रूप से अपने पास मंगवाना चाहते हैं तो पत्रिका का आजीवन सदस्य बनें। सदस्य बनने के लिए पत्रिका के संपादक या फिर प्रतिनिधि मंडल से संपर्क करें। विवरण पत्रिका के पीडीएफ फाइल में दिया हुआ है। 

BP_July_Dec2017

समाज में एकजुटता लाने के लिए इंद्रधनुषी संकल्प जरूरीः BVS

जो लोग चाहते हैं कि हमारे समाज की बुराई समाप्त होनी चाहिए, समाज को इस तरह का होना चाहिए, समाज को एकजुट होना चाहिए। यह काम कोई मैगी जैसा आइटम नहीं है कि दो मिनट में तैयार हो जाएगा। ये एक दिन में नहीं होना है। इसके लिए निरंतर काम करना पड़ेगा। सबको सामूहिक रूप से प्रयास करना होगा।

Continue reading “समाज में एकजुटता लाने के लिए इंद्रधनुषी संकल्प जरूरीः BVS”